मकर सक्रांति पर शायरी हिंदी में ! Makar Sakranti Shayari In Hindi 2020

हेलो दोस्तों स्वागत है आपका हमारी हिंदी वेबसाइट TheHindiSupport.com पर तो आज की इस पोस्ट में हम बात करने बाले हैं मकर सक्रांति के बारे में। आज हम आपको बतायेंगे की मकर सक्रांति कब मनाई जाती है।

मकर सक्रांति हमारे भारत देश का एक काफी अच्छा त्यौहार है इसे हर साल के पहले महीने 14 तारीक यानी 14 जनबरी को मनाया जाता है। पुरानी मान्यताओं के अनुसार ये त्यौहार ऋतू परिबर्तन से सम्बंधित माना जाता है। इस दिन लोग खिचड़ी खाते और बाँटते है तो कुछ लोग पतंग भी उड़ाते हैं।

लेकिन हम आपके लिए हम लेकर आये है मकर सक्रांति सुभकामना सन्देश अगर आप भी मकर सक्रांति को मनाते है तो उम्मीद है आप अपने सभी दोस्तों को इसकी शुभकामनाएं भी देते होंगे। आपके लिए कुछ ख़ास सन्देश है जिन्हे आप अपने दोस्तों को शेयर कर सकते हैं।

मकर सक्रांति Status 2020 :

1: हो मिठास की बोली, मीठे और हर वक्त मीठी जुबान
त्योहार है मकर संक्रांति का और आपको भी हमारा यही पैगाम

2 : गुड़ और तिल्ली की मिठास
आसमां में कुलांचें भरती पतंगों की आस
इस संक्रांति आपके जीवन में ऐसा ही हो उल्लास।
Happy Makar Sankranti 2020

3: उड़ी वो पतंग और खिल गया दिल
गुड़ की मिठास में देखो मिल गया तिल
चलो आज उमंग-उल्लास में खो जाएं हम लोग
सजाएं थाली और लगाएं अपने भगवान को भोग।
हैप्पी मकर संक्रांति 2020

मकर संक्रांति Shayari 2020


1: सुंदर कर्म, शुभ पर्व
हर पल सुख और हर दिन शान्ति
आप सब के लिए लाये मकर संक्रांति

2: तन में मस्ती, मन में उमंग
देकर सबको अपनापन
गुड़ में जैसे मीठापन
होकर साथ हम उड़ाएं पतंग
और भर दें आकाश में अपने रंग

3: त्यौहार नहीं होता अपना पराया
त्यौहार है वही जिसे सबने मनाया
तो मिला के गुड़ में तिल
पतंग संग उड़ जाने दो दिल
हैप्पी मकर संक्रांति 2019

4: मंदिर की घंटी, पूजा की थाली
नदी के किनारे, सूरज की लाली
जिंदगी में आये खुशियों की हरियाली
आपको मुबारक हो संक्रांति का त्यौहार

5: बचपन में वो धूम मचाना, मौज मनाना
यारो के साथ पतंगे उड़ाना
बहुत सही था यार वो ज़माना
मकर संक्रांति की हार्दिक शुभकामनायें

6: नजर सदा हों ऊँची, सिखाती है पतंग..
इस संक्रांति में हमें,
काम, क्रोध, लोभ, मोह एवं अहंकार जैसी
पतंगों को भी काटने चाहिए..

7: तिल हम हैं और गुड़ आप
मिठाई हम हैं और मिठास आप
साल के पहले त्यौहार से हो रही है आज शुरुआत
आपको हमारी तरफ से
“हैप्पी मकर संक्रांति”

8: उगता हुआ सूरज दुआ दे आपको
खिलता हुआ फूल खुशबू दे आपको
हम तो कुछ देने के काबिल नहीं हैं
देने वाला हजार खुशियां दे आपको
मकर संक्रांति की आपको हार्दिक शुभकामनायें

9: प्रेम रतन धन पायो
सर्दी को मौसम आयो
दो दिन मे एक बार नहायो
गरम पानी से नहायो
स्वेटर पहन कर घर के बाहर जायो
खूब गज़क मूफली खायो
रजाई के बाहर मत आयो
भूल मत जाना मे कांई समझायो
वरना सर्दी लग जाएगी भायो
काल ख़ूब तिला रा लड्डू खायो
मकर संक्रांति की शुभकामनायें

Makar Sakranti Shayari 2020

10: बाजरे की रोटी, निम्बू का अचार
सूरज की किरणें, चाँद की चाँदनी
और अपनों का प्यार
हर जीवन हो खुशहाल
मुबारक हो आपको संक्रांति का त्यौहार

11: काट ना सके कभी कोई पतंग आप की
टूटे ना कभी डोर आपके विश्वास की
छु लो आप ज़िन्दगी की सारी कामयाबी
जैसे पतंग छूती है ऊंचाईया आसमान की
मकर संक्रांति की हार्दिक शुभकामनायें

12: दिल को धडकन से पहले
दोस्तों को दोस्ती से पहले
प्यार को मोहब्बत से पहले
ख़ुशी को गम से पहले
आपको कुछ दिन पहले
मकरसक्रांति की शुभकामना सबसे पहले

13: मीठे गुड़ में मिल गए तिल
उड़ी पतंग और खिल गए दिल
हर पल सुख और हर दिन शांति
आप सब के लिए लाये मकर संक्रांति

मकर सक्रांति Quotes 2020

1: दिल में है छायी मस्ती
मन में भरी है उमंग
उड़ती हैं पतंगें रंग बिरंगी
आसमान में छाया मकर संक्रांति का रंग

2: हर पतंग जानती है
अंत में कचरे मे जाना है
लेकिन उसके पहले हमें
आसमान छूकर दिखाना है
*” बस ज़िंदगी भी यही चाहती है “*

3: तिल पकवानों की मिठास जिंदगी में भरिये
पतंगों की तरह आकाश में बुलंदी पाइये
और अपनी मेहनत की डोर से बुलंदी को संभाल के रखिये
आपको मकर संक्रांति की शुभकामनायें

4: मीठी बोली, मीठी जुबान
मकर संक्रांति का यही पैगाम
मकर संक्रांति की शुभकामनायें

5: काट ना सके कभी कोई पतंग आप की
टूटे ना कभी डोर आपके विश्वास की
छू लो आप जिंदगी की सारी कामयाबी
जैसे पतंग छूती है ऊंचाइयां आसमान की
Wish You Happy Makar Sankranti

6: जैसे सूर्योदय के होते ही अंधकार दूर हो जाता है
वैसे ही मन की प्रसन्नता से सारी बाधाएँ शांत हो जाती हैं
सभी को मकरसंक्राँति की हार्दिक शुभकामनाएँ

7: संक्रांति शुभ हो तुम्हारे लिए
रिश्ते में गुड़ बना रहे तिल भर गम ना छू सके
पतंगों-सा मन मेरा उड़ता रहे तुम्हारे लिए
मेरे मन के आकाश पर तम्हारे प्रेम का आदित्य उत्तरायन हो
तुम्हारे मन के मैदान में मेरी खुशियों की गिल्ली उछलती रहे
सतरंगी संक्रांति साकार हो हमारे लिए

8: पल पल सुनहरे फूल खिलें
कभी ना हो काँटों का सामना
जिंदगी आपकी खुशियों से भरी रहे
संक्रांति पर हमारी यही शुभकामना

Shayari

9: पतंगों का नशा,
मांझे की धार,
सर्दी की मार,
फिर भी दिल है बेक़रार,
मुबारक हो आपको पतंगों का त्यौहार
“हैप्पी मकर संक्रांति”

10: पूर्णिमा का चाँद रंगों की डोली
चाँद से उसकी चांदनी बोली
खुशियों से भरे आपकी झोली
मुबारक हो आप को रंग बिरंगी
‘पतंग वाली ‘ “मकर संक्रांति”
हैप्पी संक्रांति

दोस्तों कैसे लगी आपको मकर सक्रांति पर शायरी। अगर पसंद आयी हो तो इसे अपने दोस्तों को और अपने रिस्तेदारो को भी शेयर करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *