Sad शायरी (New Collection) 2020 हिंदी में। Latest Sad Shayari In Hindi

Sad शायरी (New Collection) 2020 हिंदी में। Latest Sad Shayari In Hindi -हेलो फ्रेंड्स स्वागत है आपका हमारी हिंदी वेबसाइट thehindisupport.com दोस्तों हमारे जिंदगी कभी कभी ऐसे पल भी आ जाते हैं जब हम अपने आपको काफी अकेला दुखी महसूस करते हैं। हमारे समझ में नहीं आता है क्या करें कहाँ जाएं जिससे हमारे दिल को सुकून मिल सके। और मेरा मानना ऐसा तब होता है जब कोई हमारा करीबी हमारा अपना हमें धोखा देता है। देखिये फ्रेंड्स धोखा अपना कोई भी दे सकता है ये जरुरी नहीं है की हमारी गर्ल फ्रेंड हमें धोखा दे तभी हमारा मन उदास हो।

हमारा दिल काफी काफी मासूम होता है और ये किसी को भी दिल से लगा लेता है जैसे भाई बहन पापा मम्मी या फिर गर्ल फ्रेंड्स। जिसके साथ हम खुलकर बात करते हैं और अपनी दिल की बात उनसे कहते हैं ,अगर ऐसे में उनमें से कोई आपको धोखा दे तो आपका मन काफी विचलित व्याकुल और परेशान हो जाता है। की यार अब करें ,कहाँ जाएं ,ऐसे कई सबाल हमारे मन में आने लगते हैं।

अगर आपको बही धोखा आपकी कोई गर्ल फ्रेंड दे दे। जिसे आप अपने परिबार से भी जयादा प्यार करते हो और बो आपको धोखा दे दे। ऐसे में हमारा खाना पीना जिंदगी जीना सब बेकार लगने लगता है। ऐसे समय में हमारे दिल को सिर्फ दर्द भरी शायरी सुनकर या पढ़कर ही शुकून मिलता है इसलिए आज हम लेकर आये है आपके लिए Sad शायरी (New Collection) 2020 हिंदी में। Latest Sad Shayari In Hindi जिसे आप पढ़ सकते है। और आपको जिसने धोखा दिया है उसे भेज सकते हैं।

Sad शायरी 2020 In Hindi

साँस थम जाती है पर जान नहीं जाती,
दर्द होता है पर आवाज़ नहीं आती,
अजीब लोग हैं इस ज़माने में ऐ दोस्त,
कोई भूल नहीं पाता और किसी को याद नहीं आती। ?

मेरी उदासी मुझसे रोज़ मिलने आती हैं,
मुस्कुराकर हर बार उसे रूखसत कर देता हूँ। ?

सुकून की तलाश में निकले थे हम,
तो दर्द बोला.. औकात भूल गए क्या। ?

इशरत-ए-क़तरा है दरिया में फ़ना हो जाना,
दर्द का हद से गुज़रना है दवा हो जाना।

सिसकियाँ लेता है वजूद मेरा गालिब,
नोंच नोंच कर खा गई तेरी याद मुझे।

इश्क़ पर ज़ोर नहीं है ये वो आतिश ग़ालिब,
कि लगाए न लगे और बुझाए न बने।

ज़िंदगी अपनी जब इस शक्ल से गुज़री,
हम भी क्या याद करेंगे कि ख़ुदा रखते थे।

मुँद गईं खोलते ही खोलते आँखें ग़ालिब,
यार लाए मेरी बालीं पे उसे पर किस वक़्त?

दर्द भरी सैड शायरी हिंदी में

सादगी पर उस के मर जाने की हसरत दिल में है
बस नहीं चलता की फिर खंजर काफ-ऐ-क़ातिल में है
देखना तक़रीर के लज़्ज़त की जो उसने कहा
मैंने यह जाना की गोया यह भी मेरे दिल में है

कौन कहता है नफ़रतों मैं दर्द होता है
कुछ मोहब्बत बड़ी कमाल की होती है

हम भी फूलों की तरह अक्सर तनह रहते है
कभी टूट जाते है तो कभी कोई तोड़ देता है

जिस दिल में बसा था नाम तेरा हमने वो तोड़ दिया
न होने दिया तुझे बदनाम बस तेरे नाम लेना छोड़ दिया

बड़ी हसरत थी कोई हम्हे टूट कर चाहे
लेकिन हम ही टूट गए किसी को चाहते चाहते

अँधेरा मिटा कर शहर छोड़ जाऊंगा
एक रोज़ फिर तेरा शहर छोड़ जाऊंगा

कभी सोचा न था के वो मुझे तनहा कर जायेगा
जो अक्सर परेशां देख कर कहता था मैं होना

आंसू बहे तो एहसास होता है
दोस्ती के बिना जीवन कितना उदास होता है,
उम्र हो आपकी चाँद जितनी लंबी,
आप जैसा दोस्त कहाँ हर किसी के पास होता है

Sad शायरी स्टेटस हिंदी में

आ गया जिस रोज़ दिल को समझें मुझे
आप की ये बेरूखी किस काम की रह जाएगी

मरता नहीं कोई किसी के बगैर ये हकीकत है ज़िन्दगी
लेकिन सिर्फ सांस लेने को जीना तो नहीं कहते

हर जख्म की आगोश मैं दर्द तुम्हारा है
हर दर्द मैं तस्कीन का एहसास भी तुम ही हो

हम नहीं करते इश्क़ से इश्क़ तो हमारा पेशा है
वो इश्क़ ही गया जिस मैं यार बेवफा है

हम इश्क़ के वो मुकाम पर खड़े है
जहाँ दिल किसी और को चाहे तो गुन्हा लगता है

करने लगे जब शिकवा उससे उसकी बेवफाई का
रख कर होंट को होंट से खामोश कर दिया

मर के किसी को किया इलज़ाम दे अपनी मौत का
यहाँ सताने वाले भी अपने है और दफ़नाने वाले भी अपने है

होंटो की हकीकत को न सज्मः हकीहत
दिल मैं उतर के देख कितने टूटे है हम

Sad शायरी Qoutes In Hindi

वो जिनको देख कर आँखों में आसूं जाते है
वहीं कुछ लोग ज़िन्दगी वीरान कर जाते है

हकीकत बयां करू तो मैं उसके इन्तजार में हूँ
पर क्या करू मैं नए रिश्तो की दीवार में हूँ

अश्क़ो में हुस्न-ए-रंग समोता रहा हूँ मैं
आंचल किसी का थाम के रोता रहा हूँ मैं
अब जाकर निखरा मेरा चेहरा सऊर का
वर्षो इसे शराब से धोता रहा हूँ मैं

दुनिया को आग लगाने की ज़रूरत नहीं
तो मेरे साथ चसल आग खुद लग जाएगी

मत पूछा करो रात भर जागने की वजह हटें
मोहब्बत मैं कुछ सवालों के जवाब नहीं होते

इश्क की नासमझी में हम सब कुछ गवां बैठे,
जरुरत थी उन्हें खिलौने की हम अपना दिल थमा बैठे।

उस रिश्ते को भी निभाया हमने,
जिसमें ना मिलना पहली शर्त थी।

सारी दुनिया की खुशी अपनी जगह..
उन सबके बीच तेरी कमी अपनी जगह।

हम कहीं लिखना भूल न जाएँ,
तुम यूँ ही दिल को दुखाती रहा करो।

पढ़ ना लें कहीं एक दूसरे की आँखों की उदासी,
हम मिलते हैं अब भी नज़रें मिलाते नहीं हैं

संभलकर चलना हम भी जानते थे,
पर ठोकर भी लगी उसी पत्थर से जिसे हम अपना समझते थे।

Best Sad शायरी हिंदी में

तन्हाई में अकेलापन सहा जायेगा,
लेकीन महफ़िल में अकेले रहा न जायेगा,
आपका साथ न हो तो भी जी लेंगे,
पर साथ आपके कोई और हो तो सहा न जायेगा।

वो छोड़ के गए हमें,
न जाने उनकी क्या मजबूरी थी,
खुदा ने कहा इसमें उनका कोई कसूर नहीं,
ये कहानी तो मैंने लिखी ही अधूरी थी।

या तो कबूल कर मुझे मेरी कमजोरियों के साथ,
या फिर छोड़ दे मुझे मेरी तन्हाईयों के साथ।

हम गमो को छिपाने का कारोबार करते है,
कसूर बस इतना है की हम गम देने वाले से ही प्यार करते है।

लोग मेरे आशियाने की तारीफ़ किया करते हैं,
हम उसी तारीफ़-ए-आशियाँ में घुट-घुट के जीया करते हैं।

हकिकत की रस्सियों पे लटककर,
न जाने कितने ही ख्वाब खूदकुशीं कर गये।

सैड शायरी व्हाट्सप्प स्टेटस हिंदी में

खुशियों से नाराज़ है मेरी ज़िन्दगी,
बस प्यार की मोहताज़ है मेरी ज़िन्दगी,
हँस लेता हूँ लोगों को दिखाने के लिए,
वैसे तो दर्द की किताब है मेरी ज़िन्दगी।

धीरे धीरे सब दूर होते गए
वक़्त के आगें मजबूर होते गए
रिस्तों में हमने ऐसी चोट खाई की
बस हम बेवफा और सब बेकसूर होते गए। ??

अब भी ताज़ा है ज़ख़्म सीने में,
बिन तेरे क्या रखा है जीने में,
हम तो ज़िंदा हैं तेरा साथ पाने को,
वरना देर कितनी लगती है ज़हर पीने में!!

मत सताओ हमें हम सताए हुए हैं,
अकेला रहने का गम उठाये हुए हैं,
खिलौना समझ कर न खेलो हम से,
हम भी उसी खुदा के बनाये हुए हैं।?

गुजारिश हमारी वह मान न सके,
मज़बूरी हमारी वह जान न सके,
कहते हैं मरने ?के बाद भी याद रखेंगे,
जीते जी जो हमें पहचान न सके।

खुश होक देखते हो क्या मेरी तभाही को
कोई सुहानी शाम का मंजर नहीं हूँ मैं।

कमाल की मोहब्बत थी मुझसे उसको अचानक ही शुरू हुई और बिना बताये ही ख़त्म हो गई
मैं बैठूंगा जरूर महफ़िल में मगर पियूँगा नहीं क्योंकि मेरा गम मिटा दे इतनी शराब की औकात नहीं
मेरी गलती बस यही थी के मैंने हर किसी को खुद से ज़्यादा जरुरी समझा
उस मोड़ से शुरू करनी है फिर से जिंदगी जहा सारा शहर अपना था और तुम अजनबी
अपनी तन्हाई में तनहा ही अच्छा हूँ मुझे ज़रूरत नहीं दो पल के सहारो की
जिंदगी से सिकवा नहीं की उसने गम का आदी बना दिया गिला तो उनसे है जिन्होंने रौशनी की उम्मीद दिखा के दीया ही बुझा दिया

Read More –

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *